माननीय वसुंधरा जी हम भी राजस्थान

Posted by Ravindra
November 18, 2017

Self-Published

◆ @RajCMO यह कैसा राजा का न्याय हमारी पहचान (मीणा-मीना कोर्ट केस ) जो सारभोमिक सत्य है उसको आपने सत्ता में आते ही मिटाने में सहयोग ओर एक #मिथक पर बनी फिल्म को केंद्र को पत्र क्यो ? क्या हम आपके #वोटर नही या फिर #जिंदाकोम नही ?
◆हम नहीं कहते कि आप ओर के लिये न लिखे पर हमारे #पेट पर लात खमोशी से न मारे । आप राजा है हम प्रजा पर लोकतंत्र में आपका सर्वसमाजी दृष्टिकोण नही होगा तो फिर #किसका ओर #किसके लिये #शासन हुआ ?
……….#पद्मावती से बड़ी हम लोगो की #रियलसमस्या थी जिस पर आप 3 साल में केंद्र को एक भी पत्र नही लिखी और न आप ने कोई इंटरेस्ट मीणाओ के हित मे लिया ।
◆जबकि आपके पास अनायास परेशान करने वाली #कोर्टरिट आदि को रोकने का कानून तक था क्योकि जाति पहचान #कोर्ट का काम नही न #केंद्र का वह सिर्फ और सिर्फ राज्य(आपकी) की वैधानिक कर्तव्य है ,पर आप खमोश थी और है । क्यो न पद्मावती की शान की भीड़ में , अबतक फ़िल्म भी रिलीज नही हुई कि मिथक का फिल्मी रूपांतरण कैसा है ! आप एक्टिविस्ट हो गई पर हमें (#मीणाओ ) पेट पर लात मारकर 3 साल से सो रही है ।🙅
◆हमारी जमात के नेता भी आपकी पद्मावती मिथ में साथ खड़े है पर हम नाराज है तो हमारे #हक_हकुकु के लिये क्योकि न वह दिला पाए न आपने देने की कोशिश की ।
◆ हम जानते है हमारी औकात रजवाड़ो में खो गई है पर हम अरावली का इतिहास हैं जब न आप के वंशज थे न इन रजवाड़ो के । न वक्त हमको मिटा पाया न बाहरी शासक ।
◆वक्त हमे फिर वक्त देगा यही हमारे जिंदा रहने की तासीर है ।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.