लघु कथा (contact no.)

Posted by Saurabh Shandilya
November 21, 2017

Self-Published

घर के बगल मे ही मैरिज हॉल है ,शादियों  के मौसम मे ये जगह हर दुसरे दिन व्यस्त भी रहता है ,कई बार इच्छा भी हुई ऐसे ही किसी की शादी मे घुसकर वहाँ बने स्वादिष्ट व्यंजनों का लुफ्त उठाया जाए, मेरे लिए ये कोई नयी बात नही थी, कॉलेज के दिनों मे कई बार ऐसे कारनामे किये भी है,और हर बार किस्मत ने मेरा साथ दिया था ,जब मैने अपने चचेरे भाई के लड़के से आज ऐसे ही किसी शादी  मे चलने की बात कही तो उसे कोई हैरानी नही हुई ,वो भी ऐसे काम पहले कर चूका था ,उम्र मे ज्यादा अंतर नही होने की वजह से वो मुझे चाचा नही भैया बोलता था,

ठण्ड का मौसम था,हमने सोचा पहले ही निबटा के आ जाते है ,लेकिन ये ज्यादा पहले हो गया था ,बारात भी नही आई थी और सिर्फ लड़की वाले ही वहाँ उपस्थित थे, निखिल से जब मैने ये बात कही तो वो मुझे ही समझाने लगा ,भैया आप टेंशन मत लो,कोई कुछ नहीं समझ पायेगा ,न आपका ये पहली बार है और न मेरा. निखिल के आत्मविश्वास को देखकर मै भी थोरा सहज हो गया था

भैया ,पानी पूरी खिलाना ?पहला स्टाल पानी पूरी का था ,न जाने क्यूँ मुझे अन्दर से डर सा लग रहा था ,इसलिए मै वहाँ मौजूद हर चेहरे को बड़े ध्यान से देख रहा था, कहीं इसने मुझे समझ तो नही लिया ,ये मुझे ऐसे क्यूँ घुर रहा है? पानी पूरी खाते वक्त ये सवाल मेरे जहन मे लगातार उठ रहे थे

चलो जाने दो ,जो होगा देखा जायेगा,अभी गोलगप्पे पे ध्यान लगाते हैं ,ये कहकर मैने अपने दिल को तो तसल्ली दे दी लेकिन दिमाग कहाँ शांत होने वाला था, बस यही चाह थी कि सब शुभ शुभ निकल जाये,भैया चलिए हमलोग खाना खा के तुरंत निकलते है ,इस बार निखिल के आवाज मे भी डर था और डर था पकड़े जाने का.

भैया पूरी देना ? हमारे हाथ मे खाने का प्लेट देखकर वो पूरी वाला अजीब निगाहों से हमे घुरने लगा

क्या? उसका ये क्या, सवाल कम और शक ज्यादा लग रहा था

आपका मतलब क्या है इस क्या से?आप बस पूरी दीजिये.

भैया  ऐसा है अभी तक खाना चालू करने कहा नही गया है ,आप तब तक उस तरफ टिक्की चाट मिल रहा है वो खा लीजिये ,ठीक है ठीक है आपके सलाह के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ,अपने शर्म को अपने शब्दों से ढकने की असफल कोशिष करते हुए हमलोग टिक्की  चाट की तरफ हो लिए

भैया टिक्की चाट खिलाना,

हाँ हाँ भैया क्यूँ नही आपलोगों के लिए ही तो ये सब है ,उसके इस अपनेपन से  सुन के दिल को काफी सुकून  लगा ,ऐसा लगा जैसे अब कामयाबी मिल जाएगी.

लीजिये भैया टिक्की चाट,आपको ये जरूर वैरी गुड लगेगा,उसका  ये  मुक्त अंदाज और अंग्रेजी बोलने की चाह ने मुझे उससे बात करने पर विवश कर दिया

भैया आप तो अजब गजब अंग्रेजी बोलते हो, मैने मजाकिया लहजे मे उससे ये बात कही,

नही भैया,शौक तो बहुत था पढ़ने का, खासकर अंग्रेजी बोलने का ,लेकिन भैया मजबूरी नाम की चिड़िया गरीबो के घर मे सिर्फ खुद उड़ती है, किसी और को कहाँ उड़ने देती, लेकिन भैया मेरा सपना मेरा बेटा पूरा करेगा,

वाह ये तो अच्छी बात है,वैसे कितने में पढ़ता है?

चौथी  क्लास मे है अभी,बहुत तेज़ बच्चा है भैया, उसको अगर सही दिशा मिले तो वो बहुत आगे जायेगा,मेरा तो बस एक ही सपना है, बड़ा आदमी बन के वो मुझसे अंग्रेजी मे बात करे,नही समझेंगे तो क्या हुआ yes yes तो कर ही सकते हैं.

मैने उसके हाँ में हाँ मिला दी, इस दफा उसने सवाल किया

भैया, वैसे आप क्या करते हो?

मैने कहा, पढ़ता  हूँ  और पढ़ाता हूँ,

पढ़ने वाली बातों पे वो खुश हो गया और बिना देर किये उसने अपनी इच्छा जाहिर कर दी.

भैया क्या आप मेरे बेटे को पढाओगे?

तभी निखिल मेरे कान मे फुसफुसाया ,भैया ये तो आपके पीछे ही पड़ गया.निखिल को परेशान देखकर मैने उसे तसल्ली देते हुए कहा ,कौन सा मुझे इससे आज के बाद मिलना है, नंबर माँगा यदि तो बहाना बना दूँगा या गलत नंबर दे दूँगा, हमारी बाते चल ही रही थी की एक अधेर उम्र के आदमी ने हमे बीच में टोक दिया ,कहाँ से आये हो बेटा?

अचानक से कान में पड़े इस सवाल से मै घबरा गया  और निखिल की तो बोलती ही बंद हो गयी.

मैने कहा ,बस यही से हूँ ,

उसने फिर पूछा, मेरा मतलब है लड़की वाले की तरफ से या लड़के वाले की तरफ से?

इस बार मैने हिम्मत से जवाब दिया, किसी की तरफ से नही बस यही बगल से आया हूँ

बगल मे रहते हो तो क्या मुह उठा के कही भी चले जाओगे,फ्री का आता है क्या ये सब,इस बार उसने तीखा प्रहार किया, मै अब कुछ कहने ही वाला था की टिक्की चाट वाले ने उसे और मुझे  बीच मे ही टोक दिया ,सर इन्हे जाने दीजिये ,ये मेरे पहचान वाले है,मेरे मास्टरसाहब है ,मेरे बेटे को अंग्रेजी पढाते है ,इसपर वो आदमी  थोड़ा नरम हो गया ,और इधर मौका देखकर  हमलोग वहाँ से निकल गये,लेकिन एक सवाल जो निखिल के मन में उस वक्त हलचल पैदा  कर रही थी  उसने बहार निकलते ही मुझसे पूछ लिया,

भैया आपने वहाँ  से  भागते  वक्त उस टिक्की चाट वाले को कागज मे लिखकर  क्या दिया?

मैने कहा- कुछ नही पगले, बस अपना contact नंबर.

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.