ऐसे में कैसे जीतेगे दक्षिण अफ्रीका में……. ????

Posted by Kailash Singh
December 10, 2017

Self-Published

हाल ही में भारतीय क्रिकेट टीम क्रिकेट के तीन फार्मेट में अव्वल है। गेंदबाजी हो या बल्लेबाजी, यहाॅ तक की क्षेत्ररक्षण भी अव्वल दर्जे की हो रही है। भारत ने लगातार नौ टेस्ट सीरिज जीतकर आॅस्ट्ेलिया की रिकार्ड की बराबरी की है। वनडे क्रिकेट में भी लगातार भारत सीरिज जीत रही है। श्रीलंका को उनके घर में सभी फार्मेट में 9-0 से हराकर आई है। एक बार फिर श्रीलंका के साथ अपने घर में मैच चल रहा है। श्रीलंका के साथ पहला वनडे धर्मशाला के खूबसूरत मैदान में खेला गया। उम्मीद सभी को थी कि पहला वनडे रोहित की कप्तान भारतीय टीम आसानी से जीतेगी। लेकिन श्रीलंका के तेज गेंदबाज लकमल के समाने घुटने टेक दिये। लग रहा था बल्लेबाज बल्लेबाजी करने नही धर्मशाला के मैदान में टहलने आयी हो। जिस तरह की स्विंग हो रही थी इस परिस्थिति में तो विश्व का कोई भी बल्लेबाज परेशानी तो होनी थी। लेकिन धोनी ने संयम भरी पारी खेलकर दिखा दिया कि बल्लेबाजी की जा सकती है। आसानी से भारत को 7 विकेट से श्रीलंका ने पहले वनडे में तो हरा दिया, लेकिन सवाल यह उठता है कि अगर यहाॅ ऐसा हाल है तो दक्षिण अफ्रीका की तेज व उछाल भरी पिचो पर भारत का क्या होगा?

साल 2018 की शुरूआत 5 जनवरी से दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैच से होगी। भारत वहाॅ 3 टेस्ट, 5 वनडे, 3 टी20 मैच खेलेगी। इसके लिए 17 सदस्यीय टीम का भी एलान हो चुका है। श्रीलंका के साथ हुई टेस्ट सीरिज में पिचो को भी दक्षिण अफ्रीका की पिचो की तरह ही तैयार किया गया था। अगर पिछले दो तीन सालो में देखा जाये तो भारत ने कई सारे मैचो में काफी जबरदस्ती बल्लेबाजी की है, जहाॅ पिच गेंदबाजो के समर्थन में रही है वहाॅ विश्व की टाॅप बल्लेाबाज रखने वाली टीम ताश की पत्तो की तरह बिखरती दिखी है। यानि यह कहना गलत नही होगा कि जहाॅ पिच बल्लेबाजे के सपोर्ट में होगी वहाॅ रन बनायेगे। भारत अभी तक दक्षिण अफ्रीका मं कोई टेस्ट सीरिज नही जीता है। हमने सिर्फ एक या दो ही टेस्ट मैच वहाॅ पर जीते है। ऐसा ही कुछ हाल वनडे क्रिकेट में है। वहाॅ की परिस्थति में रन बनाना है भारतीय टीम के लिए काफी मुश्किल है, पहला वनडे की दास्ता अब तक यही कह रही है। दक्षिण अफ्रीका की पिचो पर कगिसो रबाडा, मोर्न मार्केल, वेन पर्नेल जैसे तेज गेंदबाजो को हमारे बल्लेबाज कैसे सामना करेगे? बेशक विराट कोहली दक्षिण अफ्रीका में होने वाले मैचो में मौजूद रहेगे लेकिन विराट के लिए इन गेंदबाजो का सामान करना बहुत बड़ी चुनौती होगी। इन गेंदबाजो की स्विंग व रफतार का सामना करना पूरी भारतीय क्रिकेट टीम के लिए आसान नही होगा।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.