Youth Ki Awaaz is undergoing scheduled maintenance. Some features may not work as desired.

कच्चा अमरुद

Posted by Mihir Shukla
December 10, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

कच्चा अमरुद

कच्चे अमरुद के पेड़ पर एक गौरैया बैठी थी
मन में उसके गहमा-गहमी थी ।
दिमाग के “आईडिया” से बने “जिओ” के टावर से ,
वो थोड़ी सहमी थी ।
“एयर” उसकी है वो लोगो को कबतक ” टेल” करेगी ;
लोग उसको कब तक “ट्राई” करेंगे ।
अब तो बच्चो के मौत के संदेसे भी मैसेज पर आ जातें हैं
गोरैया का गांव “डिजिटल” हो गया है ।
आज कल पेड़ बहुत जल्दी काट जातें हैं ,पहले समय लगता था ;
सुना है गांव का नया मुखिया बहुत मेहनती है ।
वो तालाब जहा गौरैया जाकर कुछ देर सुस्ता लेती थी ,
आजकल नज़र नहीं आता है , सुना है गौरैया के  गाँव को किसी ने  “गोद”  ले लिया है ।
आखिर गौरैया अपना दर्द किसको बातए ?
राजा सुनेगा नहीं ,विरोधी “समझ नहीं पाएगा”।
अदालतों में पहले से ही कई टूटे घोंसलों के मुक्कदमें चल रहें हैं ।
और गौरैया का अपना “ट्विटर” !
उसको पहले ही कौवो ने घेर रखा है ।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.