क्या होगा जब हत्यारे के साथ भीड़ खड़ी हो जाएगी!

Posted by Azad Anwer
December 16, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

Udaypur

ये वीडियो राजस्थान की है, देखिये उदयपुर कोर्ट के ऊपर कैसे राष्ट्रवाद स्थापित किया जा रहा है!

देश में कोर्ट की ईमारत, थाना,विधानसभा भवन, कलेक्ट्रेट आदि ही तो होती है डेमोक्रेसी की निशानी, जिसपे देश का झंडा लहराया जाता है। पर उदयपुर में ये नजारा तब बना जब अफ़राजुल का हत्यारा सम्भू लाल के समर्थन में सेकड़ो लोग सड़कों पर आ गए और तोड़फोड़ किया और पुलिस से भीड़ गए,इसी बीच इस उन्मादी भीड़ में से एक आदमी कोर्ट के ऊपर चढ़ के भगवा झंडा लहराता हुआ नजर आता है।

क्या देश को अब भी इनका राष्ट्रवाद समझ में नहीं आया, आज एक निर्दयी हत्यारा, जो कुल्हाड़ी से एक असहाय को बार बार वार करके अधमरा कर देता है फिर पेट्रोल डाल कर आग लगा देता है, और इस पुरे घिनौने परक्रम का एक नाबिलिग द्वारा वीडियो भी बनवाता है तथा बड़े ही बेशर्मी से बिना डरे सोशल मीडिया में ये वीडियो वायरल कर देता है।

इस देश में कोई आश्चर्य की बात नहीं है,कि रेप करने वाले बाबा के समर्थन में हजारों लोग सड़कों पे आ जाते है और दंगे करते हैं फिर आज लोग हत्यारे के समर्थन में सड़क पे आ गए।

इन नारों पे गौर करिये, ना चाहते हुए भी आप एक झुरझुरी सी महशुस करेंगे,ये राष्ट्रवाद का उत्साह नहीं है,ये राष्ट्रप्रेम का आवेग नही है ,ये जो सिहरन है वो मार दिए जाने का डर है।

आज ये भीड़ खुलेआम एक हत्यारे के साथ खड़ी है कल यही भीड़ खुलकर छाती ठोकता हुआ कई और अफ़राजुल को मारेगी, और देश का लॉ एंड आर्डर निसहाय खड़ा ताकता नजर आएगा।

मुझे समझ नहीं आ रहा की इस घिनौनी राष्ट्रवाद के परिभाषा पे चिंता व्यक्त करूँ, क्षोभ करूँ या कड़ी निंदा भर कर के अपने कमरे में बैठ जाऊँ।

कहीं कोर्ट परिसर की ये घटना अमनपसंद लोगों के दिल से डेमोक्रेसी के रहे सहे भ्रम को हमेशा के लिए मिटा ना दे!
कहीं लोग सरकारों से उनकी रक्षा और इन्साफ का उम्मीद लगाना छोड़ ना दे! कहीं लोग अपनी सुरक्षा और इन्साफ का जिम्मा अपने ऊपर ना ले लें! कहीं लोग इस फासीवादी सरकार के विरुद्ध क्रांति ना ले आए!

वीडियो के लिए निम्न फेसबुक लिंक पर क्लिक करे:

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1469755033144984&id=100003315057860

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.