तार आया न संदेश

Posted by Swatantra Yadav
December 19, 2017

Self-Published

मातृ भूमि की रक्षा करते हुए शहीद,अपने प्राणों को राष्ट्र को समर्पित करने वाले गरमदल के रामप्रसाद बिस्मिल,ठाकुर रोशन सिंह,और असफ़ाक़ुल्लाह खांन को नमन करते हुए ,और उनके विचारों का स्मरण करते हुए अपने विचार रखना चाहेंगे।
नौजवानों उनको याद करो सत्ता बदल दो क्योंकि बेरोजगारी इतनी बढ़ गयी है कि, आज के युवा नौजवान गलत रास्ते का अनुसरण कर रहे है,जो कि हमारे राष्ट्र के लिए घातक है।
इसलिए घातक है कि नौजवानों में उनके जैसी बहादुरी, बाहुबल नही रह पाएगा,भुखमरी होगी बेरोजगारी के कारण।
देश को अंग्रेजों से गुलाम कराने के लिए उन्होंने अपने प्राण न्योछावर किये इसलिए सत्ता को बदलने का काम आप युवाओं का है।जो सरकार रोजगार नही दे सकती,जो धर्म के नाम पे लडाती है उसे बदल दो।    कितनी माताओं के मांग के सिंधुर उजड़ गए,कितनी बहनो की कलाई सुनी हो गयीं।
उन शहीदों की माताओं, बहनो की असंतृप्त आत्मा आज भी उन्हें ढूंढ रही है,लेकिन भारत माँ उन लोगों सदा के लिए अपनी गोंद में सुला लिया औऱ उन्हें आज भी उनकी उनकी बेटियाँ इंतजार करती है और पूछती है क्या मिला हमे अपने
पिता,भाई और बेटे की कुर्बानी पे।

तार न कोई संदेश,मातायें बहने

कब तक बनाये रहेगी ऐसा भेष।

कब तक ऐसा रहेगा हमारा देश।

आखिरी पंक्ति और जब तक रहेगी ऐसी सरकार,नही मिलेगा युवाओं को रोजगार।

।।जय हिंद जय भारत।।।                  Created by Swatantra Yadav

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.