भारत का भविष्य नौजवानों के हाथ में – प्रो. श्रीनिवास सिंह

Posted by Satya Prakash Pandey
December 4, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

दिनांक 03/12/2017 को महामना मदन मोहन मालवीय टेक्नीकल यूनिवर्सिटी कैम्पस में पूर्व राष्ट्रपति डा. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम के विजन को आगे बढ़ाने के क्रम में कलाम युथ समिट 2017 कार्यक्रम संपन्न हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में महामना मदन मोहन मालवीय टेक्नीकल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. श्रीनिवास , विशिष्ट अतिथियों के रूप में श्री सुरेश चंद्र, रीजनल साइंस ऑफिसर, सी. एस. टी. गोरखपुर एवम् डा. आरिफ खान, पूर्व उपनिदेशक, भारतीय रक्षा अनुसंधान संस्थान उपस्थित थे। श्री सुरेश चंद्र ने डा. कलाम के व्यक्तित्व को याद करते हुए छात्रों को उनके आदर्शों पर चलने के लिए प्रेरित किया। डा. आरिफ खान ने डा. कलाम के साथ अपने कार्यक्षेत्र के लंबे अनुभवों को साझा करते हुए बताया की डा. कलाम ने अपने जीवन में कभी भेदभाव, जाति या धर्म को स्थान नहीं दिया।

कार्यक्रम का सञ्चालन करते हुए सत्य प्रकाश पाण्डेय जी ने बताया की संयुक्त राष्ट्र संघ के 2030 तक भुखमरी और कुपोषण मुक्त विश्व के लक्ष्य का पालन करते हुए भारत ने देश के तीन जिलों को भुखमरी और कुपोषण मुक्त बनाये जाने के पायलट प्रोजेक्ट के रूप में चयनित किया है जिसमे एक गोरखपुर भी है।  मदन मोहन मालवीय टेक्नीकल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. श्रीनिवास सिंह ने कहा कि  भारत का भविष्‍य युवाओं के हाथ में है, आज भारत दुनिया का सबसे युवा देश है। युवाओं को बैज्ञानिक और सकारात्‍मक सोच के साथ सादगी तथा कठिन परिश्रम पर अधिक ध्‍यान देना होगा।

 

 

ज़ीरो हंगर के लक्ष्य को प्राप्त करने के साझा प्रयास के उद्देश्य से जुड़े सत्र में डा. आरिफ खान और संयुक्त राष्ट्र के साथ लंबे समय तक कार्य कर चुके वैज्ञानिक श्री राम चौधरी ने अपने प्रेजेंटेशन्स के माध्यम से बताया कि बढ़ती जनसख्या का कृषि पर भार भी इतनी बड़ी समस्या नहीं है बल्कि उत्पादन का भण्डारण किया जाना, उत्पादन में विटामिन और पोषक तत्वों की कमी, प्रचुर पोषक तत्वों वाली पारंपरिक फसलों का गायब हो जाना और वैज्ञानिक कृषि के ज्ञान का अभाव का होना है। स्मार्ट विलेज के सत्र में अपना परिचय देते हुए हसुड़ी औसानपुर, सिद्धार्थनगर के ग्राम प्रधान दिलीप त्रिपाठी ने बताया कि उनका गांव उत्तर प्रदेश का पहला पूर्ण डिजिटल गांव है जिसके लिए उन्हें कई राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जा चुका

 है। कार्यक्रम में युथ रत्न अवार्ड के क्रम में हर्षवर्धन सिंह, प्रियांशा शुक्ल, कल्यान देव को कलाम युथ रत्न अवार्ड से समानित किया गया।

इस कार्यक्रम में पांच ऐसे व्यक्तित्वों को अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया जिन्होंने अपने कार्यक्षेत्र में एक मुकाम कायम किया है। इनमे सुभाष चंद्र जायसवाल(बेस्ट सिटीजन), दिलीप त्रिपाठी (इन्नोवेटिव सरपंच), डा. जमाल अख्तर (मेडिकल & रिसर्च), अंकिता बाजपेयी (नृत्य कला में विश्व रिकार्ड धारक), संगम दुबे (क्रिएटिव फोटोग्राफी) को कलाम अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.