सारणी|बैतूल-शासकीय महाविधालय का नाम वीर विष्णुसिंह गोंड के नाम से जाना जाएंगा,आदिवासी छात्

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

सारणी|बैतूल-आदिवासी बाहुल्य जिला बैतूल के वि.ख.घोड़ाडोंगरी के बगडोना में संचालित शासकीय महाविद्यालय का नाम अब शहीद वीर विष्णुसिंह गोंड के नाम से जाना जायेंगा। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शहीद सरदार विष्णुसिंह गोंड उइके नामकरण की घोषणा होने पर आदिवासी छात्र संग़ठन ने ढोल-धमाके के साथ नृत्य कर मिठाई बाँटकर हर्ष व्यक्त किया।दरसल कई वर्षों से आदिवासी छात्र संगठन द्वारा शासकीय महाविधालय का नाम बदलने की मांग की जा रही थी।28 दिसंबर को आदिवासी छात्र संगठन की मांगो को गंभीरता से लेकर जनभागीदारी समिति के अथक प्रयासों से शासकीय महाविधालय का नाम बदलकर शहीद वीर विष्णु सिंह गोंड कर दिया गया है।यह खुशखबरी आदिवासी छात्र संघठन के नेता लक्ष्मण नर्रे ने बताया की आदिवासी क्षेत्र होने के कारण महाविद्यालय का नाम आदिवासी सैनानी के नाम पर हो इसके लिए कई बार ज्ञापन भी दिया गया। और बड़े लम्बे अरसे समय बाद घोषणा होने पर सभी आदिवासी छात्र छात्राओ और समस्त आदिवासी संघटन ने प्रशासन और महाविद्यालय प्रबन्धन का आभार व्यक्त किया है।आदिवासी छात्र संगठन के प्रदेश अध्यक्ष रामु टेकाम जी ने सुबह कॉल करके संगठन के पदाधिकारियों और छात्र-छात्राओं को बधाईयाँ दी।और कहा की हमारे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी महापुरुष के नाम से जल्द से जल्द सरदार विष्णु गोंड के नाम से महाविधालय में प्रतिमा लगाने को कहा।जिससे हमारे आदिवासी छात्र-छात्राएं उनसे प्रेरणा ले सके। इस अवसर पर युवा समाजसेवी सुनिल सरियाम, छात्र नेता कृष्णा नागवंशी, सरोज बिंझाड़े, संजु धुर्वे, धनराज धुर्वे प्रमुख रूप से उपस्थित थे।आदिवासी छात्र संगठन बैतूल के पदाधिकारी अध्यक्ष राजेश धुर्वे,मनीष कुमार कुमार धुर्वे,संदीप धुर्वे,ज्ञानसिंह परते,मनीष परते,पवन परते,राजकुमार ककोड़िया ने हार्दिक बधाईयाँ दी।

रिपोर्ट-मनीष कुमार धुर्वे
युवा आवाज बैतूल

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.