2G फैसला : क्या मिला?

Posted by NooruDdin Khan
December 22, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

2G मामले पर कोर्ट का फैसला आ चूका है । ये मामला शुरू से सुर्ख़ियो में रहा है। टीवी पर डिबेट का अवसर भी प्रदान किया तो अख़बार के पहले पन्ने की खबर बन्ने का अवसर भी प्राप्त किया। राजनितिक परिवर्तन का एक कारक के साथ साथ लोगो के बिच लंबे समय तक एक चर्चा का मुद्दा भी था। आशा थी की फैसले के साथ सभी चर्चाओं पर विराम लग जायेगी मगर ये क्या हुआ…..फैसला तो नए चर्चे के दरवाजे खोलने के साथ ही मीडिया को टाइम पास करने के साथ साथ TRP बढ़ाने का मुद्दा भी दे दिया । क्या एक ऐसे मामले की जांच के लिए जनता धन का दुरूपयोग किया गया जो हुआ ही था या दोषियों को सजा दिलाने में CBI पूरी तरह नाकाम हुई है। सत्य चाहे जो भी हो ये दोनों ही बातें शर्मनाक हैं।
आप सभी लोगों को मालूम होना चाहिये कि 3 मई 2016 के एक आर्टिकल में इंड़िया टुडे ने इसे 5 सबसे बड़े घोटालों में जगह दिया था। उस आर्टिकल की हैडिंग थी ‘scams that shamed India: 5 biggest scams in Indian history’ |
जबकि 1552 पेज के फैसले में जज सैनी ने लिखा है ” पिछले लगभग सात साल , सभी वर्किंग डेज जिसमें गर्मी की छुट्टी भी शामिल है, मैं लगातार सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक अपने कोर्ट में बैठ कर इंतज़ार करता रहा ताकि कोई भी मामले से जुड़ा बैध सबूत लाकर दे लेकिन सब बेकार गया ……… मामले में एक भी गवाह टर्नअप नहीं हुआ ।इसका मतलब साफ़ था की सभी लोग अटकलों , अफवाहों और गाशिप के पीछे भाग रहे थे जबकि पब्लिक परसेप्शन का क़ानूनी प्रक्रियाओं में कोई महत्त्व नहीं होता है।”
बात को ख़त्म करते हुए मैं तीन बातें कहना चाहता हूँ
1: किसी भी ऐसी जांच के नाम पर धन का दुरूपयोग न किया जाए जिससे कुछ हासिल न होने वाला हो।
2: दोषियों को सज़ा दिलाने के लिए प्रतिबद्धता हो।
3: जब अदालत में आरोप सिद्ध न हो जाए मीडिया किसी से दोषी जैसा सलूक न करे।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.