hAMARA BOOK BANK

Posted by Baba Ganga Ram
December 21, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

इस मँहगाई के दौर में स्कूल व् कॉलेज की इतनी महंगी किताबे खरीद पाना निम्न व् मध्यम वर्ग के लिए बहुत कठिन हो गया है मेहेंगी किताबे न खरीद पाने के कारण हजारो लाखो बच्चो की पढ़ाई बीच में ही छूट जाती है या वे ढीक से पढ़ नहीं पाते। जीवन में कुछ कर दिखाने के सपने पुरे नहीं हो पाते। हमारा बुक बैंक विद्यार्थियों के इन्ही सपनो को पुरा करने का प्रयास कर रहा है स्कूल व् कॉलेज की पुरानी किताबे जोकि किसी विद्यार्थी के अगली कक्षा या पास हो जाने के बाद बेकार हो जाती है अधिकतर इन किताबो को रद्दी में बेच दिया जाता है। हमारा बुक बैंक घर-घर जा कर इन्ही सेकंड हैंड किताबो को इक्ट्ठा करता है और निरंतर प्रयास करता है कि कोई भी किताब जो किसी विधार्थी के काम आ सकती है रद्दी के ढेर में ना जाये ताकि देश का कोई भी विधार्थी किताबो की वजा से पढ़ने-लिखने से वंचित न रहे जाये। हम सभी इन सेकंड हैंड किताबो को एक नया जीवन देकर विद्यार्थियों की मदद के साथ-साथ देश के लाखो पेड़ भी कटने से बचा सकते है। पेड़ो को कटने से बचाने पर हमें ओर हमारे पर्यावरण तथा विश्व को क्या-क्या फायदे हे ये आप सभी भली प्रकार से जानते है। आज देश का करोड़ो रुपया सेकंड हैंड किताबो के रूप में रद्दी में जा रहा हे ये सेकंड हैंड किताबे रद्दी नहीं ज्ञान का भंडार हे इसकी कीमत वही जान सकता हे जिसे इन किताबो की जरूरत है

हमारा बुक बैंक के इस छोटे से प्रयास से आज हजारो बच्चे व् विधार्थी इन्ही सेकंड हैंड किताबो से पढ़लिख रहे है किसी भी विधार्थी को किसी भी कक्षा की कोई भी किताब पुस्तक चाहिए तो उसका विवरण हमे भेजे अगर वहे किताबे बुक बैंक में होगी तो उन विद्यार्थीओ को सेकंड हैंड किताबे निःशुल्क मोहिरया कराई जाएगी चाहे व् देश के किसी भी कोने में हो।

https://www.facebook.com/hamarabookbank/

Please Don’t SELL your School BOOKS to Raddywala, Donate us for NEEDY students. 

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.