बापू के देश का बाप तक का सफर:

Posted by Jasskaran Kahlon
January 23, 2018

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

भारत जिसे पूरे विश्व में  महात्मा गांधी (बापू) के नाम साथ भी जाना जाता है। गांधी जी विश्व भर मे अहिंसा के दूत के रूप में पूजनीय हैं। बापू और भारत की पहचान को एक साथ देखा जाता है। जिस समय भारत अंग्रेज़ों की ग़ुलामी मे जकड़ा हुआ था उस समय भी देश मे विभिन्न प्रकार की विचारधाराओं का प्राचलन था। फिर भी मुख्य रूप मे नरम एवं गरम दल के लोग ही स्वतन्त्रता की लड़ाई लड़ रहे थे। 

गांधीवादी अहिंसा मे पूर्ण विश्वास रखते थे। गांधी जी ने आज़ादी के लिए बहुत संघर्ष किया। विश्व के पटल पर अगर किसी भारतीय व्यक्ति की सबसे ज़्यादा गरिमा थी तो वह थे महात्मा गांधी। 

दूसरी और थे गरम दल के लोग जिनका उदेशय भी आज़ादी थी परन्तु कार्य शैली अलग थी। इन सब के बीच मे तीसरा दल पनप रहा था जिसकी गतिविधियाँ देश के लिए शहीद करतार सिंह सराभा, शहीद करतार सिंह, शहीद उधम सिंह, शहीद भगत सिंह, शहीद चन्द्र शेखर, शहीद सुखदेव, शहीद राजगुरु जैसे अनगिनत अैसे नाम हैं। अपना आप क़ुर्बान करके देश सेवा में डाल दिया। लोगों कि लड़ाई लड़ी। आज जिस स्वतंत्र भारत में हम आज रह रहे हैं वह सिर्फ़ अैसे शूरवीरों की बदौलत ही संभव हो पाया। 

अगर हम बात करें आज के भारत की बात करें तो एक नया अध्याय शुरु हुआ है। देश को बदलने कि कोशिश की जा रही है। आज की सत्ताधारी पार्टी अपने आप को देश की सबसे बड़ी हमदर्द बता रही है। अगर इतिहास पे नज़र मारे तो संघ यां भाजपा मे कोई भी अैसा व्यक्ति नहीं हुआ जिसने आज़ादी की लड़ाई मे कोई योगदान दिया हो। आज सत्ता में आने पर तुग़लक़ी फ़रमान सुनाती जा रही है। ताजुरबाहीन सरकार ने देश को आर्थिक मंदी के संकट में ला खड़ा कर दिया है। देश मे धार्मिक उत्पात मचाने में सत्ता पक्ष व प्रधानमंत्री ख़ुद ज़िम्मेवार हैं। 

कुश दिन पहले भाजपा के एक प्रवक्ता को एक डिबेट में सुना वह कह रहे थे कि मोदी जी देश के बाप हैं। मुझे बयान काफ़ी उटपटा लगा। सिर्फ़ मुझे ही नहीं देश के बहुत सारे लोगों को यह उटपटा लगा। मुझे यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि क्या यह वही बापू वाला देश है या देश के ऊपर नया बाप थोपा जा रहा है। दुर्भाग्यपूर्ण घटना कहा जा सकता है। परन्तु मैं यह कदापि मानने को तैयार नहीं की मोदी जी देश के बाप हैं। 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.