“भारतीय प्रशाशण”

Posted by Shaswat Kashyap Kashyap
January 12, 2018

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

भारतीय प्रशाशण हो गया है भष्ट ,                    क्योकी नेताओं की बुद्धी हो गई हैं नष्ट,             जिससे आम जनता को हो रहा है कष्ट,            क्योकि वो नहीं कर सकते नेताओं पर TRUST,  Modern politics are saying we have “Money THRIST Money THRIST”.

 

Police have become CATERPILLAR जिन्हें चाहिए हरी पत्ती ,                                              In case लगा हो “Traffic Jam” जलते ही लाल , हरी या पिली बत्ती ,                                           यदि नहीं देते , सुनते हैं जनता सभ्य गालि,            जैसे हम है उस बाग के फुल , जिनके सभ्य POLICE हैं माली।

 

जनता के धन LOCKER का धडाधड खुल रहा है ताला,                                                              हो रहा है “चारा और कोयला” घोटाला,               फिर भी नहीं जाते है कोई देश के नेता जेल,                करवा लेते है जनता के धन से अपना बेल।

 

भारत को चाहिए एक पथ प्रदस्क ,                           जो इन नेताओं का SWEEP SHOT मार कर कहे, How is it दर्शक How is it दर्शक।

 

बचाओ कोइ भारत को होने से नष्ट ,                          क्योकि “भारतीय प्रशाशण” हो गया है “भष्ट,भष्ट,भष्ट”।।

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.