Youth Ki Awaaz is undergoing scheduled maintenance. Some features may not work as desired.

स्वामी जी के विचारो से शिक्षा के दो पहलू है सांसारिक एवं आध्यात्मिक जो एक दूसरे के पूरक है

Posted by Abhimanyu Kumar
January 12, 2018

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

पूज्य स्वामी विवेकानंद असीम ऊर्जा, विराट विद्वता एवं आदर्श भारत के अद्भुत संगम थे। असीम एव रहस्मयी ऊर्जा उन्हें अपने गुरु स्वामी रामकृष्ण परमहंस से मिली थी जबकि विराट विद्वत्ता का स्रोत भारतीय ऋषियों द्वारा युगों युगों से विकसित विराट विरासत है। उनके मन-मस्तिष्क में भारत के स्वर्णिम अतीत तो अंकित था ही साथ ही साथ उनके दिलों में अपने युगों के पराधीनता की पीड़ा और उसके फलस्वरूप घटित आर्थिक दुर्दशा, सांस्कृतिक अध:पतन और सामाजिक विघटन से भी चिंतित थे जो उनके ओजस्वी कथनों से पता चलता है।
वे देश के नागरिकों में अपनी संस्कृति के महानता के प्रति सम्मान की भावना एव नागरिको में राष्ट्रीय विकास की भावना को जागृत करने के लिए उन्हें शिक्षित करना चाहते थे। वे वर्तमान शिक्षा के विरोधी तो नही थे किंतु वे समर्थक भी नही थे। क्योकि उनका मानना था कि वर्तमान शिक्षा से लोगो मे आर्थिक विकास तो हो जाएगा लेकिन उनमें नैतिकता नही रहेगी, जिस राष्ट्र के नागरिकों में नैतिकता नही होगी तो वहाँ के नागरिकों में राष्ट्रीयता की भावना मर जाएगी। इसलिए वे शिक्षा के माध्यम से भारत वासियों में दो तरह के ज्ञान कि आवश्यकता दर्शाये है।
क्योकि शिक्षा के माध्यम से ही ज्ञान का विकास होता है, इसलिए उन्होंन शिक्षा से दो तरह का ज्ञान, पहला सांसारिक ज्ञान और दूसरा आधात्मिक ज्ञान अर्जित करना जरूरी बताया। क्योकि की वे अक्सर कहा करते थे कि रोटी का प्रश्न हल किये बिना भूखे व्यक्ति धार्मिक नही बनाये जा सकते है। इस लिए उन्होंने रोटी का प्रश्न हल करना सबसे मुख्य एवं पहला कर्तव्य बताया किन्तु इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि रोटी की समस्या हल होने के पश्चात लोगो मे दुर्गुणों का समावेश हो जाता है।
क्योकि मनुष्य में आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होने के पश्चात उनमे समाहित होने वाले अवगुणों को दूर रखने तथा उनमे समाज सेवा के गुण समाहित करने हेतु आधयात्मिक ज्ञान बहुत ही जरूरी है। इसलिए उनका मानना था कि सांसारिक ज्ञान के बिना आज के इस परिवेश में आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ नही किया जा सकता है। वही आधयात्मिक ज्ञान के बिना लोगो मे समाज सेवा और राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण संभव नही है। क्योकि वर्तमान परिवेश में आर्थिक सम्पन्नता मनुष्यो को अपने नैतिक मूल्यों से दूर और बहुत दूर ले जाती है।
हावर्ड विश्व विद्यालय के एक व्यख्यान में उन्होंने कहा था कि अमूर्त अद्वैत का हमारे दैनिक जीवन में जीवंत काव्यात्मक के साथ गद्यात्मक रूप मे भी पहुँचना आवश्यक हो जाता है। क्योंकि अत्याधिक जटिल धार्मिकता/ आध्यत्मिकता में से मूर्त नैतिक रूप निकलने चाहिए इस प्रकार वे अपने नव्य वेदांत दर्शन में आधुनिक वैज्ञानिक दृष्टिकोण एव समकालीन विचारो को स्थान दिया। क्योकि उनका मानना था कि कोई राष्ट्र अपनी स्वभाविक जीवन धारा एवं शक्ति को छोड़ देने की कोशिश भी करता है तो वो राष्ट्र काल-कवलित हो जाएगा। इसलिए स्वामी जी आजीवन आध्यत्मिकता को भारतीय जीवन, समाज और राष्ट्र का प्रधान स्वर मानते रहे।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.