आपको भी जानना है कि इंट्रेस्टिंग इंटरव्यू कैसे लें? तो पढ़ें ये 8 ट्रिक्स

Posted by WritingTips in Hindi, Writer Resource Centre
January 21, 2018

एक इंटरव्यूअर के तौर पर सामने वाले इंसान से उसकी कहानी जानने के लिए काफी तैयारी और दृढ़ता चाहिए। आधिकारिक तौर पर ऐसी बाते कहलवाना जो पहले कभी नहीं कही गई, या कोई ऐसी जानकारी निकलवाना जो आपकी स्टोरी को बेहद ही मज़बूत बना सकती है, सिर्फ और सिर्फ इस बात पर निर्भर करता है कि आपने सही सवाल पूछे कि नहीं या इंटरव्यू के लिए सही अप्रोच रखा या नहीं और सबसे ज़रूरी कि क्या इंटरव्यू देने वाले के लिए भी आपके साथ बात करना इंट्रेस्टिंग रहा या नहीं।

इन्हीं सब को सही रखने के लिए कुछ टिप्स जो इंटरव्यू करने से पहले याद रखने चाहिए:

1. रिसर्च

इंटरव्यू से पहले रिसर्च करने का दूसरा कोई विकल्प नहीं है। अक्सर इंटरव्यू में बिना तैयारी के सवाल पूछने पर लोग अपनी किरकिरी करवा लेते हैं, खासकर वो सवाल पूछने पर जो शायद एक गूगल सर्च करने पर भी मिल जाए। इसलिए बैकग्राउंड रिसर्च सबसे ज़रूरी हिस्सा है जो बेहद ही ध्यान से करना चाहिए। इससे ना सिर्फ वो सवाल पूछने से बचा जा सकता है जिनके जवाब पहले से लोगों को पता हैं बल्कि नए सवाल के लिए भी आइडिया रिसर्च से ही आ सकता है।

2.बोरिंग सवालों का बोरिंग जवाब ही मिलेगा

अगर आपने अपनी रिसर्च सही तरीके से की है तो आपको जिनका इंटरव्यू लिया जाना है उनके बारे में बहुत सी ऐसी बातों का पता चलेगा जिनके बारे में या तो पहले कभी नहीं या ज़्यादा नहीं लिखा गया है। इसे अपनी ताकत बनाएं। उन इंट्रेस्टिंग चीज़ों और सवालों का पता लगाएं जो आपको इंटरव्यू में कुछ ऐसी जानकारियां हासिल करने में मदद करेंगी जो पहले से लोगों को पता नहींं हैं। अच्छे सवाल पूछने पर आपको उनकी इज्ज़त भी मिलती है जिनका आप इंटरव्यू कर रहे हैं।

3. ओपन एंडेड सवाल पूछें लेकिन अस्पष्ट नहीं

सवाल इतने केंद्रित होने चाहिए जिससे कि वो अस्पष्ट ना हों, लेकिन इतने भी नहीं जिनका जवाब हां या ना पर खत्म हो जाए या फिर एक शब्द का जवाब मिले। सही तरीके से तैयार किया गया सवाल इंटरव्यू दे रहे शख्स को मौका देता है अपनी बात को विस्तार से बताने का और इसी क्रम में कई बार बेहद ही महत्वपूर्ण जानाकारियां भी सामने आ जाती हैं। उन्हें सवाल का जवाब देने का मौका दें, उचित स्पेस दें लेकिन इतना भी नहीं कि बहुत सारी बातें होने के बावजूद आपके सवाल का जवाब ही ना मिले। जैसे- ‘अपने प्रोजेक्ट के बारे में बताएं’ यह एक बेहद ही ब्रॉड सवाल है और इसके बदले एक बेहतर सवाल जैसे कि हमें बताएं कि आपका यह प्रॉजेक्ट मेंटल हेल्थ के मुद्दे पर एक नया बहस कैसे शुरू करेगा?

4.साबित करने की ज़िद छोड़कर सुनना शुरू करिए

अक्सर इंटरव्यू लेने वाले सवाल पूछने के बाद जवाब नहीं सुनते हैं, और यह सबसे बड़ी गलती है। आप वहां पर एक स्टोरी ढूंढने के लिए हैं, और जब स्टोरी इंटरव्यू के तौर पर मिल रही हो तब ध्यान से सुने। पहले से तैयार किए गए सवाल तो इसलिए होते हैं ताकि ऐसा ना हो कि आपके पास पूछने के लिए कुछ भी ना हो, लेकिन असल में कुछ इंट्रेस्टिंग निकालने के लिए इंटरव्यू में दिए जा रहे जवाबों से ही सवाल बनाने पड़ते हैं। आपका काम इंटरव्यू दे रहे इंसान से वो बातें निकलवाने का है जो पहले नहीं कही गई हो, इसलिए उन्हें बोलने दें, चाहे उनकी बातों से आपकी बहुत सहमति ना भी हो।

5. सवाल पर ज़ोर दें लेकिन हद ना पार करें

बहुत से विवादित या संवेदनशील मुद्दों पर इंटरव्यू देने वालों का प्रयास होता है कि जवाब देने से बचा जाए। और यहीं पर आपका हुनर काम आता है। उसी सवाल पर अलग-अलग ढंग से उनकी राय जानने की कोशिश करें, सामने वाले को भरोसा दिलाएं कि इस सवाल का जवाब देना उनके, आपके और यह इंटरव्यू पढ़/देख/सुन रहे लोगों के फायदे के लिए है। और हो सकता है आपको अपने सवाल का जवाब मिल जाए। लेकिन हद पार करके किसी इंसान को जवाब के लिए परेशान कर देना जो कि आजकल टीवी मीडिया में काफी चलन में है, बेहद ही बुरा और गैर असरदार तरीका है।

6. बातचीत का सही माहौल तैयार करें

जिस सवाल के जवाब की तलाश में आपने इंटरव्यू तय किया है उसे जानना तो बेहद ज़रूरी है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप सीधा उसी सवाल से शुरू करें। एकबार बातचीत सही तरीके से शुरू हो जाए, और सामने वाले को आपसे बातचीत में सहजता आ जाए फिर पूछिए अपने सवाल। थोड़ा एंगेजिंग बनाएं इंटरव्यू को, ऐसे शब्दों का प्रयोग करें कि इंटरव्यू देने वाले को भी लगे कि आप इंट्रेस्टेड हैं। जब सामने सबसे बड़ा सोर्स हो तो कोई भी जानकारी मिस नहीं होनी चाहिए।

7. इंटरव्यू किस मीडियम के लिए है

हालांकि एक इंट्रेस्टिंग इंटरव्यू तो किसी भी मीडियम के लिए काम कर सकता है लेकिन एक इंटरव्यूअर के तौर पर यह आपकी ज़िम्मेदारी है कि मीडियम के हिसाब से ही आप तैयारी करें। मसलन अगर इंटरव्यू प्रिंट के लिए है तो सवाल बेहद ही सटीक और टू द प्वाइंट होने चाहिए, अगर टीवी या अन्य ब्रॉडकास्ट मीडियम के लिए है तो ज़्यादा ओपन एंडेड और बातूनी हो सकता है।

8. तब तक इंटरव्यू खत्म ना समझें जब तक खत्म ना हो

एक बेहद ही इंट्रेस्टिंग बात है कि अक्सर इंटरव्यू देने वाले आपको अपनी नोटबुक बंद करते हुए देख अचानक कुछ ऐसा कह जाते हैं जो शायद आपकी स्टोरी के लिए सबसे ज़रूरी बात हो। कई बार सबसे महत्वपूर्ण पंच लाइन भी तब ही बोली जाती हैं। मतलब यह कि जब तक आप स्पॉट से बाहर ना निकलें इंटरव्यू को खत्म ना समझें। जब तक इंटरव्यू देने वाले यह ना कहें कि यह बात ऑफ द रिकॉर्ड है तब तक सबकुछ आधिकारिक है।

हालांकि यह कुछ टिप्स हैं लेकिन इंटरव्यू लेने कि कला हर इंसान के लिए अलग हो सकती है। सभी अपने-अपने हिसाब से अपना तरीका बना लेते हैं। जैसे बहुत से लोग दृढ़ता से अपने सवाल का जवाब निकलवा लेते हैं तो कुछ लोग इंटरव्यू देने वालों को अपनी बातों से मजबूर कर बातें निकलवा लेते हैं। तो ज़रूरी है कि आप भी अपने इंटरव्यू के तरीके का सही बैलेंस ढूंढे लेकिन सबसे ज़रूरी बात कि सामने वाले की बात सुनें।

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।