पॉर्नहब 2017 रिव्यू: पॉर्न देखने वाली भारतीय लड़कियों में 129% इज़ाफा

Posted by Vishal Dubey in Hindi, Sex, Society
February 9, 2018

क्या आप पॉर्न देखते हैं? अगर नहीं तो गंगाजल लेकर बैठिए और लेख खत्म होने के बाद खुद पर छिड़क कर शुद्ध हो जाइएगा। जिस देश में सैनेटरी नैपकिन पर बात करने से लोग कतराते हों, जिस देश में दिन में कंडोम के ऐड दिखाने पर बैन हो, जहां सेक्स एजुकेशन के नाम पर समाज चेहरा छिपाता हो वहां पॉर्न की बात करना शीत युद्ध में न्यूक्लियर हथियार चलाने जैसा है।

लड़कियों के लिए टैबू सोसाइटी देने वाला भारत शायद भूल गया की उसकी पवित्र धरती पर महर्षि वात्स्यायन ने कामसूत्र जैसे महान ग्रन्थ की रचना की। देश भूल गया कि उसकी खजुराहो से लेकर एलोरा की गुफाओं में शिल्पियों ने कितनी खूबसूरती से स्त्री-पुरुष के संबंधों को उकेरा है।

खैर बात 2017 की जिस वर्ष महिलाओं के लिए सोशल मीडिया पर ‘मी टू’ नाम का ट्रेंड चला। जिसमें लड़कियों ने मुखर भाव से अपने ऊपर गुजरे उन तमाम उत्पीड़नों को साझा किया जिसे वो जेहन के गर्त में दबाये बैठी थीं। यह ट्रेंड विश्वस्तरीय मंचों पर सर चढ़ कर बोला और अब तक उसकी झलक देखने को मिल रही है। गोल्डन ग्लोब से लेकर ग्रैमी जैसे अवार्ड शो हों या हेलेरी क्लिंटन से लेकर निक्की हेली जैसी मशहूर राजनीतिक हस्तियां हों सबने ‘मी टू’ कैम्पेन का साथ दिया। सच कहें तो व्यापक पैमाने पर महिलाओं को लेकर जो वर्जनाएं थीं वो टूट रही हैं। समाज की जड़ता और बेड़ियों के खुलने का वक्त शुरू हो गया है।

Pornhub
पॉर्नहब इनसाइट्स 2017

ऐसे में दुनिया की सबसे लोकप्रिय पॉर्न पोर्टल ने एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें 2017 के चौंका देने वाले आंकड़े सामने आये हैं। पॉर्नहब नाम की इस वेबसाइट के रिपोर्ट के अनुसार विश्वभर से 26% लड़कियों का ट्रैफिक देखने को मिला जो 2016 के मुकाबले 2 प्रतिशत बढ़ा है। अगर बात केवल भारत की करें तो लड़कियों के ट्रैफिक के हिसाब से हम 30% विज़िटर्स के साथ दुनिया में चौथे पायदान पर आ गये हैं। हमसे ऊपर फिलीपिंस(36%) , ब्राजील(35%) और साउथ अफ्रीका (32%) हैं। वर्ष 2017 में फीमेल विजिटर्स में जो बढ़ोत्तरी देखी गयी उसमे भारत अव्वल पर रहा। फिलीपिंस में 30%, ब्राजील में 8% प्रतिशत और साउथ अफ्रीका में 33% की बढ़ोत्तरी देखी गयी जबकि भारत में ये रिकॉर्डतोड़ 129% की बढ़ोत्तरी के आकड़े तक जा पंहुचा। इस मामले में दूसरे पायदान पर आने वाला जापान भी लड़कियों के ट्रैफिक में 56% की वृद्धि हासिल कर पाया।

पॉर्नहब की इस पांचवीं वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 में  लगभग 28.5 अरब लोगों ने साइट पर विजिट किया जो आंकड़ा 8.1 करोड़ विजिटर्स प्रतिदिन के लगभग है। इस वेबसाइट पर गतवर्ष लगभग 50 हजार सर्च प्रति मिनट किये गये यानी 800 सर्च प्रति सेकेण्ड। 2017 में इस वेबसाइट पर 40 लाख से ज्यादा विडियो अपलोड किए गए जिनका कुल समय 6 लाख घंटे का था यानि इस साल अपलोड हुई सभी विडियो को पूरा-पूरा देखने में आपको 68 साल का समय लगेगा। अगर डेटा की बात की जाए तो पॉर्नहब डॉट कॉम पर 1 करोड़ जीबी से ज़्यादा रोज़ अपलोडिंग हुई। प्रति सेकेण्ड में ये आंकड़ा 118 जीबी के करीब बैठता है। ध्यान रहे कि ये आंकड़े केवल और केवल एक पॉर्न वेबसाइट के हैं।

बरकरार है सनी का जलवा

2017 की टॉप फाइव फीमेल पॉर्नस्टार्स और सेलेब सर्च में सनी लियोन को लगातार तीसरे साल भी जगह मिली जबकि वो इंडस्ट्री छोड़ चुकी हैं। उन्हें 12 करोड़ दफा सर्च किया गया सनी से ऊपर राईली रीड (54 करोड़) , मिया खलीफा (44 करोड़) , लिजा एन (27 करोड़) , किम करदाशियां (15 करोड़) रहीं। कुल ट्रैफिक के मामले में भारत टॉप तीन देशों में शामिल हो गया है उससे ऊपर यूएस और यूके ही हैं। वेबसाइट के अनुसार इस बार भी मोस्ट पोपुलर डे रविवार रहा जबकि लीस्ट पोपुलर डे शुक्रवार बना।

रोचक पर सत्य ये है कि दुनिया में सबसे ज़्यादा पॉर्न देखने वाले देशों में शुमार भारत का आधे से ज़्यादा ट्रैफिक 18-24 वर्ष आयु वर्ग का है।भारत में बढ़ते पॉर्न ट्रैफिक की एक वजह जियो की इंटरनेट क्रांति भी है। दुनिया भर से न्यू ईयर के दिन वेबसाइट को 37 % कम ट्रैफिक प्राप्त हुआ और क्रिसमस के दिन 29 % विजिटर्स की कमी आई। जबकि भारत में होलिका दहन के दिन सबसे कम लोगों ने पॉर्न देखा इस दिन 16% ट्रैफिक पॉर्नहब तक नहीं गया।

इन आंकड़ों में खासकर भारतीय लड़कियों में पॉर्न देखने की संख्या में हुई 129 % की वृद्धि दिखाती है कि कैसे भारतीय समाज में चोरी-छिपे ही सही पर परिवर्तन आ रहा है। स्वप्रेम और सेक्स एजुकेशन से जुड़ी इन वेबसाइट्स पर लड़कियों का इतनी भारी संख्या में आना एक बहुत बड़े पिंजरे के खुलने जैसा और रूढ़िवादी सोच पर एक चोट जैसा है।

 

पॉर्नहब की पूरी रिपोर्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।