श्रीदेवी आप अपने चाहने वालों को बहुत याद आएंगी

Posted by preeti parivartan in Art, Hindi
February 25, 2018

मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां हैं
थोड़ा ठहरो सजन मजबूरियां हैं।
मिलन होगा अभी इक रात की दूरिया हैं
मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां है,
फिल्म:चांदनी
हर घर की शादी की संगीत में यह गाना बजना तय है।

मैं ख्वाबों की शहज़ादी
मैं हूं हर दिल पे छाई
बादल है मेरी ज़ुल्फ़ें
बिजली मेरी अंगड़ाई
बिजली गिराने मैं हूँ आई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई… हवा हवाई…
हवा हवाई… हवा हवाई…
फिल्म: मिस्टर इंडिया
इसे गाने में एक किस्म की बेपरवाही, आजाद खयाल, बंधन से मुक्त रहने का भाव आता है।

तू न जा मेरे बादशाह एक वादा तोड़ के
एक वादे के लिए
तू न जा मेरे बादशाह
मार ना डाले कहीं ये तेरी फुरक़त मुझे..
मै वापस आउंगा.. ये मेरा वादा रहा
फिल्म: खुदा गवाह
ये प्यार में डूबा हुआ गीत है प्रेमिका का अपने प्रेमी के लिए।

ना जाने कहां से आई है ना जाने कहा को जायेगी..
दीवाना किसे बनाएगी ये लड़की
बड़ी छोटी सी है ये बात,
किसी के हाथ ना आएगी ये लड़की..
फिल्म: चालबाज
इस गाने में मुझे एक चुलबुली- नटखट लड़की महसूस होती है।

मोरनी बागा मा बोले आधी रातमा छननछन चूड़ियां खनक गयी देख साहिबां चूड़ियां खनक गयी हाथ मा
मैं तो लाज के मारे, हो गयी पानी पानी सब लोगों ने सुन ली मेरी प्रेम कहानी
फिल्म: लम्हे
इस में वो लड़की है जो प्यार में है और शरम ले लाल है।

मैं तेरी दुश्मन दुश्मन तू मेरा मैं नागिन तू सपेरा – 2 जनम जनम से तेरा मेरा बैर ओ रब्बा खैर
फिल्म: नगीना
इस में वो लड़की है जिसमें प्रतिरोध की ताकत है।

ऐ जिन्दगी गले लगा ले –
हमने भी तेरे हर इक ग़म को गले से लगाया है,
है ना
ऐ जिन्दगी गले लगा ले।
फिल्म: सदमा
इसमें एक मासूम लड़की है जिसका व्यवहार बच्चों वाला है।

सुनियो जी इसको रखियो जतन से
बड़ी नाज़ुक है नाज़ुक है कली ये अनमोल
फिल्म: इंग्लिश विंग्लिश
इस गाने में एक मां और ज़िम्मेदार पत्नी है।

श्रीदेवी ने तकरीबन 300 सिनेमा किया था। ये तो महज़ वो गाने हैं जो श्रीदेवी का ज़िक्र होते ही ज़हन में आ जाता है। मुझे श्रीदेवी का व्यक्तित्व भी इन गानों की तरह ही लगता है!

जब सिनेमा देखने और समझने की उम्र हुई तब तक श्रीदेवी हिन्दी सिनेमा की पहली सुपरस्टार अभिनेत्री बन चुकी थीं। रिलीज़ होने के सालों बाद दूरदर्शन पर मिस्टर इंडिया देखे और रट लिए “कहते हैं मुझको हवा हवाई” आखिरी सिनेमा इंग्लिश- विंग्लिश देखें। फिर बीच में कई और सिनेमा, ‘रूप की रानी चोरों का राजा’, ‘नगीना’, ‘सदमा’ सब देखे।

मिस्टर इंडिया की श्रीदेवी और सदमा की श्रीदेवी, रूप की रानी और चोरों का राजा की श्रीदेवी और नगीना की श्रीदेवी और सालों बाद सिनेमा में वापसी करने वाली इंग्लिश- विंग्लिश की श्रीदेवी। इन फिल्मों को देखकर श्रीदेवी की अभिनय का रेंज पता चलता है। आज कुछ देर पहले सुनने में आया की नहीं रहीं। कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई। यह परिवार के लिए जितना शॉकिंग है उतना ही उनके चाहने वालों के लिए भी। जाना तो है ही इक दिन लेकिन इतनी जल्दबाज़ी ठीक नहीं!

भारत में हर साल कार्डियक अरेस्ट की वजह से तकरीबन 10 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो जाती है और ये बढ़ ही रहा है। अचानक से मौत, क्या कारण है, इलाज क्या है, अगर अचानक ऐसी स्थिति आए तो मौके पर मौजूद लोगों को क्या करना चाहिए सब इंटरनेट पर मौजूद है। पढ़िए, गौर करिए, खुद की स्थिति से मिलान करिए, अगर डॉक्टर मित्र हैं तो उनसे पूछिए।

बाकी, कहते हैं कि जन्म और मृत्यु प्राकृतिक है उस पर किसी का ज़ोर नहीं है फिर भी इतना तो कर सकते हैं कि छोटी- छोटी बातों का वज़न दिल- दिमाग पर न दें।

थ्री इडीयट्स में आमिर खान का एक डायलॉग है “ये जो अपना दिल है न बड़ा डरपोक है इसको बेवकूफ बनाकर रखो। लाइफ में कितनी भी बड़ी प्रॉब्लम हो इसको बोलो कोई बात नहीं चाचू  All izz well”

आपकी कमी हमेशा खलेगी।

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।