अंतर्जातीय विवाह पर आपका कमेंट बिहार के युवाओं की तौहीन है तेजस्वी जी

Posted by प्रियंका in Hindi, Politics, Society
March 3, 2018

हाल ही में बीबीसी के एक इंटरव्यू में बिहार के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी के छोटे पुत्र, राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव से जब यह पूछा गया कि क्या वे अंतर्जातीय विवाह करेंगे? तो उन्होंने बहुत ही गंभीरता से जवाब देते हुए कहा : “इंटर कास्ट मैरिज करना या नहीं करना या किस लड़की से हम शादी करेंगे, ये मेरा फैसला है ही नहीं न! हम बिहारी लोग हैं, ये हमारे माता-पिता का अधिकार है!”

तेजस्वी को इससे कोई रोक नहीं सकता कि वे अपना विवाह अपने माता पिता की ही मर्ज़ी से करें, लेकिन उनके बयान में जिस तरह से बिहार के सभी युवाओं को जनरलाइज़ करने की कोशिश की गई है, वह बेहद अफसोसजनक है।

तेजस्वी को यह ध्यान रखना चाहिए था, कि उन्हें किसी ने पूरे बिहार की सांस्कृतिक ठेकेदारी नहीं दे रखी है। उनके इस विचार से जहां विवाह को लेकर रूढ़िवादी मानसिकता प्रोत्साहित होगी, वहीं बिहार की एक अनावश्यक पिछड़ी तस्वीर लोगों के सामने पेश होगी। इस बयान से इतना ज़रूर तय हो जाता है, कि तेजस्वी कहीं से भी बिहार के आधुनिक सोच रखने युवाओं का प्रतिनिधित्व करने के काबिल नहीं हैं।

विवाह के नाम पर माता-पिता (या अन्य परिजनों) की पसंद को अपनी संतानों पर थोपे जाने की परिपाटी केवल बिहार में ही नहीं, कमोबेश पूरे देश में रही है। लेकिन इसके दुष्परिणामों ने और समय के साथ हुई वैचारिक प्रगति ने इस परिपाटी को बहुत हतोत्साहित किया है। समय के साथ यह धारणा मजबूत होती जा रही है कि पारंपरिक तरीके से तय होने वाली शादियों में भी उन लोगों की पसंद-नापसंद को प्राथमिकता दी जानी चाहिए, जिन्हें साथ मिलकर जीवन जीना है।

एक दौर ऐसा भी था जब बिना तस्वीरें देखे दो परिवारों के बीच रिश्ता तय हो जाया करता था, लेकिन अब पारंपरिक विवाहों में भी अक्सर ऐसा होने लगा है कि लड़का-लड़की विवाह से पहले न सिर्फ मिलते हैं, बल्कि संचार की नई तकनीकों के माध्यम से संवाद कर एक दूसरे को जानने-समझने की कोशिश भी करते हैं। यह बदलाव पूरे देश के साथ बिहार में भी हो रहा है। इसके बावजूद इस सच्चाई से इनकार नहीं किया जा सकता कि अब भी बहुत सारी शादियां रूढ़िवादी तरीके से होती हैं।

यह दुखद है और इस बात की ज़रूरत है कि इस तरह की परिपाटी के खिलाफ व्यापक जागरूकता लाई जाए। लेकिन जब किसी राज्य के उपमुख्यमंत्री जैसे ज़िम्मेदार पद को संभाल चुके एक युवा नेता, इस तरह का जनरलाइज़्ड बयान दें कि विवाह के बारे में फैसला लेने का अधिकार युवाओं के बजाय उनके माता पिता को है, तो इसका सिर्फ और सिर्फ नकारात्मक प्रभाव ही पड़ सकता है।

तेजस्वी के इस बयान से बिहार के उन लाखों युवाओं की तौहीन हुई है, जिन्होंने अपने विवेक से अपने जीवनसाथी का चयन किया है या करना चाहते हैं।

इस बयान में बिहार के उन लोगों के संघर्षों के प्रति तो बड़ी ही हिकारत और संवेदनहीनता प्रकट हुई है, जिन लोगों ने परिवार और समाज के भारी विरोध के बावजूद सामाजिक बंधनों और कुरीतियों को धता बताते हुए प्रेम विवाह किया है।

बिहार के लड़के ही नहीं बिहार की लड़कियां भी अपनी पसंद के जीवनसाथी चुनने को लेकर पर्याप्त मुखरता दिखा रही हैं। शिक्षा तक लगातार बढ़ रही पहुंच और आत्मनिर्भरता बढ़ने के साथ-साथ जीवन साथी के चयन के अधिकार को लेकर युवाओं के आत्मविश्वास में भी लगातार वृद्धि हो रही है और आशा की जानी चाहिए कि आने वाले वर्षों में इस मसले पर पूरी बदली हुई तस्वीर दिखाई देने लगेगी।

यह एक कड़वा सच है कि अपनी पसंद से शादी करने वाले लोगों को कई बार अपने परिजनों और समाज का भारी असहयोग और विरोध झेलना पड़ता है, लेकिन हमेशा ऐसा ही हो, यह ज़रूरी नहीं है। यह मैं अपने अनुभव से भी जानती हूं। मेरे पति भी बिहारी हैं और उन्होंने यह खुद तय किया था कि उन्हें किससे शादी करनी है।

हमारे अंतर्जातीय और अंतरप्रांतीय प्रेम को लेकर शुरुआत में परिजनों को थोड़ी बहुत असहजता ज़रूर हुई, लेकिन बाद में सभी ने न सिर्फ हमारे फैसले को स्वीकारा बल्कि विवाह समारोह को लेकर हमारी आडंबर विहीन और किफायती एप्रोच को भी सहर्ष स्वीकार किया और सराहा। मैं अपने छोटे व्यक्तिगत परिचय और सीमित जानकारी के बावजूद बिहार के ऐसे कई युवक-युवतियों से परिचित हूं, जिन्होंने प्रेम विवाह किया है या प्रेम विवाह करने को लेकर बेहद स्पष्ट हैं।

तेजस्वी! ज़रूरी है कि आप बिहार की बदलती हुई तस्वीर के साथ ताल-मेल बैठाना सीखें। अपने ही समाज में हो रहे उस बदलाव को महसूस करें जो दशकों से बिहार की सत्ता में बैठे लोगों के मंसूबे पर पानी फेर रहा है।

इसके अलावा एक सलाह यह भी है कि अपने समाज के पिछड़ेपन को भी ईमानदारी से महसूस करें और उसके निवारण का अगुवा बनने की कोशिश करें न कि पिछड़ेपन का ब्रांड एम्बेसडर बनने की, नहीं तो इसका परिणाम यह होगा कि आप अप्रासंगिक होते चले जाएंगे।

फोटो आभार: फेसबुक पेज Tejashwi Yadav

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।