कहने के लिए असिफा…

Posted by Gunja Kapoor
April 17, 2018

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

कहने के लिए तुम नन्ही हो,
असल में इंतज़ार तुमसे बड़प्पन का है |
कहने के लिए तुम कली हो,
असल में इंतज़ार तुम्हारे खिलने का है |
कहने के लिए तुम किस्मत से मिलती हो,
असल में इंतज़ार तुम्हारी विदाई का है |
कहने के लिए तुम्हारे कई रूप हैं,
असल में इंतज़ार तुमसे परिणय का है |
कहने के लिए तुम सृष्टि रचती हो,
असल में इंतज़ार तुमसे वात्सल्य का है |
कहने के लिए तुम रिश्तों की डोर हो,
असल में इंतज़ार तुम्हे बाँधने का है |
कहने के लिए तुम लक्ष्मी हो,
असल में इंतज़ार तुम्हारे गहनों का है |
कहने के लिए तुम वृत्ता हो,
असल में इंतज़ार तुम्हारी परीक्षा का है |
कहने के लिए तुम याज्ञसेनी हो,
असल में इंतज़ार तुम्हारी उपेक्षा का है |
कहने के लिए तुम अमानत हो,
असल में इंतज़ार तुम्हारे दान का है |
कहने के लिए मैं बहुत कुछ हूँ,
असल में इंतज़ार मेरे सब कुछ का है |
बस कहने के लिए…
इस जग की हूँ,
इस आँगन की हूँ,
इस कुल की हूँ |
असल में…
मैं कहीं की नहीं हूँ
मैं किसी की नहीं हूँ
मैं कुछ नहीं हूँ |

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.