“बाबा साहब की बदौलत ही आज मेरी गिनती इंसानों में होती है”

Posted by Sumit Chauhan in Hindi
April 14, 2018

127 साल पहले आज ही के दिन इस धरती पर ऐसे व्यक्ति ने जन्म लिया था जिसकी बदौलत आज मेरी गिनती इंसानों में होती है। मैं आज पढ़-लिख पा रहा हूं, शासन-प्रशासन में हिस्सेदार हूं और अपने अधिकारों को पहचानता हूं। मैं अक्सर सोचता हूं कि अगर उस वक्त डॉ अंबेडकर ना होते तो क्या आज मेरा आज़ाद वजूद होता? जवाब की कल्पना आप कर सकते हैं।

डॉ. अंबेडकर 20वीं सदी के ऐसे महानायक थे जिन्होंने करोड़ों लोगों को ना सिर्फ इंसान का दर्जा दिलाया बल्कि संविधान के रूप में उनके बुनियादी मानवाधिकारों की गारंटी भी दी। 20वीं शताब्दी में पूरी दुनिया में उपनिवेशी शासन से लोगों को मुक्ति मिली, इस सदी में इंसान ने खुद को एक आज़ाद इंसान साबित करने और अपने अधिकारों के लिए ज़बरदस्त संघर्ष किया। अंग्रेजों ने भारतीयों को सिर्फ 200 साल तक गुलाम बनाकर रखा लेकिन इस भारतीय उपमहाद्वीप में कुछ लोग ऐसे थे जिन्हें हज़ारों सालों तक गुलामी की ऐसी जंज़ीरों में जकड़ कर रखा गया जिन्हें कोई तोड़ ना सका।

पढ़ने-लिखने की मनाही, सार्वजनिक कुओं और तालाब से पानी पीने की मनाही, संपत्ति नहीं रख सकते, बिना मज़दूरी के जीवन भर काम करना, पशुओं से भी बदतर जीवन जीने के लिए मजबूर होना, ब्राह्मणवादियों का मल-मूत्र साफ करना और मरे हुए पशुओं की चमड़ी उधड़वाने का काम करने वाले शूद्रों को आज़ाद ख्याल इंसान बनाना क्या किसी उपनिवेशी महाशक्ति को हराने से कम है। देश की आज़ादी में लाखों-करोड़ों लोग साथ थे लेकिन लाखों-करोड़ों दलितों को वर्णवाद की दासता से आज़ादी दिलाने की लड़ाई डॉ अंबेडकर ने अकेले ही लड़ी।

चाहे महाड़ सत्याग्रह के ज़रिए दलितों को तालाब से पानी पीने का अधिकार दिलाने की बात हो या इंग्लैंड में गोलमेज सम्मेलन में भारत में दलितों के हक की नुमाइंदगी करने का मामला हो, डॉ अंबेडकर ने बिना रुके अपने संघर्ष को जारी रखा। तमाम विपरित परिस्थितियों के बावजूद खुद-पढ़ लिखकर अपने आप को इस काबिल बनाया कि वो बड़े से बड़े विद्वान से तर्क कर सकें।

ज़रा सोचिए कक्षा में बाहर बैठकर पढ़ने को मजबूर एक छात्र को उस वक्त कैसा लगा होगा जब वो कोलंबिया यूनिवर्सिटी और लंडन स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स की इमारत की सीढ़ियां चढ़ रहा होगा।

एक छात्र के रूप में तमाम कठिनाईयों से लड़कर सफलता के शिखर पर पहुंचने तक डॉ अंबेडकर का जीवन आज के तमाम छात्रों के लिए प्रेरणादायक है। घर-बार छोड़कर अच्छी शिक्षा और रोज़गार की तलाश में बड़े शहरों में संघर्ष करने वाले छात्रों को उनके छात्र जीवन के संघर्ष से प्रेरणा लेनी चाहिए।

डॉ अंबेडकर ने हिंदू धर्म द्वारा पोषित वर्णवाद की बखिया उधेड़कर रख दी। अपनी पुस्तक ‘जाति का खात्मा’ में डॉ अंबेडकर लिखते हैं, “मैं हिंदूओं की आलोचना करता हूं, मैं उनकी सत्ता को चुनौती देता हूं इसलिए वो मुझसे नफरत करते हैं। मैं उनके लिए बाग में सांप की तरह हूं।” शूद्रों को जिन धर्मग्रंथों को पढ़ने की इजाजत नहीं थी उन्हीं ग्रंथों द्वारा स्थापित वर्ण व्यवस्था और भेदभाव के सिद्धांतों को डॉ अंबेडकर ने अपने सवालों से धूल चटा दी।

अपनी पुस्तक ‘अछूत कौन थे और वो अछूत कैसे बने’ में डॉ अंबेडकर लिखते हैं, “सभी मनुष्य एक ही मिट्टी के बने हुए हैं और उन्हें यह अधिकार भी है कि वे अपने साथ अच्छे व्यवहार की मांग करें”।

ऋग्वेद के पुरुषसुक्ता में जिन शूद्रों को ब्रह्मा के पैरों से उत्पन्न हुआ बताया गया है वहां मानव के प्राकृतिक अधिकारों की बात करना अपने आप में एक क्रांति है।

महिलाओं को मातृत्व के अवकाश का अधिकार दिलाने से लेकर भारतीय रिजर्व बैंक की संकल्पना देने तक में डॉ अंबेडकर की आधुनिक सोच का परिचय मिलता है। हम उनके जीवन से बहुत कुछ सीख सकते हैं।

आज जब दलित आगे बढ़ रहे हैं तो उनके सामने चुनौतियां भी बढ़ रही हैं। जातिवाद का रोग अभी भी मनुवादियों में जड़े जमाए बैठा है। हर रोज SC/ST समुदाय के लोगों के खिलाफ अपराध के औसतन 96 मामले दर्ज़ होते हैं, इनमें जातीय भेदभाव, उत्पीड़न, हत्या, रेप, गैंगरेप और दूसरे अपराध शामिल हैं। ऐसे समय में जब दलितों के खिलाफ अपराध में न्याय की दर सिर्फ 14 प्रतिशत है उस वक्त SC/ST एक्ट को कमज़ोर किया जा रहा है। आरक्षण को अघोषित तरीके से कॉलेज-विश्वविद्यालयों में खत्म किया जा रहा है। तरह-तरह से फेलोशिप खत्म करके, स्कॉलरशिप की राशि घटाकर, कई गुणा फीस बढ़ाकर हमें पढ़ने-लिखने से रोकने की कोशिश हो रही है। हमें स्कूल-कॉलेज से लेकर दफ्तरों तक में जाति का दंश झेलना पड़ता है। बाबा साहब के नाम में ‘रामजी’ पर फोकस करके उनकी विरासत को हथियाने की कोशिश हो रही है, कहीं उनकी मूर्ति को भगवा रंग में रंगा जा रहा है तो कहीं उनकी मूर्तियों को खंडित किया जा रहा है।

ऐसे समय में हमें डॉ अंबेडकर का संदेश याद रखना चाहिए। अपनी पुस्तक ‘गांधी और अछूतों का उद्धार’ में डॉ अंबेडकर ने लिखा हैं, “दलित युवाओं से मेरा यह पैगाम है कि एक तो वे शिक्षा और बुद्धि में किसी से कम न रहें, दूसरे ऐशो-आराम में न पड़कर समाज का नेतृत्व करें। तीसरे, समाज के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी संभाले तथा समाज को जागृत और संगठित कर उसकी सच्ची सेवा करें”।

– सुमित चौहान

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।