बुरे होते हैं बिहारी क्योंकि वो चुपचाप सह लेते हैं आपका मज़ाक और बने रहते हैं मज़दूर

बिहारी बहुत बुरे होते हैं,

इतने बुरे कि ऑटो चलाते हैं और आपका सामान छूट जाये तो घर पहुंचाते हैं।

 

इतने बुरे कि तीन हज़ार वेतन में आपके चप्पल-कपड़े की दुकान पर 12 घंटे खड़े होकर काम करते हैं

और बदले में आपकी गालियां भी सह लेते हैं।

 

पंजाब हरियाणा में तो बिहारी और भी बुरे होते हैं एक दम निक्कम्मे,

खेतों में बुआई से लेकर कटाई तक का काम करते हैं और बदले में अपनी ठुकाई करवा जाते हैं।

 

ये दुष्ट बिहारी अपने घर से हज़ारों मील दूर किसी कॉपर खदान में काम करते हुए असमय मर जाते हैं,

किसी कोयले खदान में आपके लिए बिजली पैदा करते हुए मार दिए जाते हैं और कहीं चूं तक नहीं होता।

 

बिहारी इतने बुरे होते हैं कि उन्हें देख आपका मराठी मानुस, गुजराती अस्मिता जाग जाती है,

फिर उन्हें पीटा जाता है, तोड़ दिया जाता है उनका 50 रुपए दिहाड़ी वाला ठेला।

 

नॉर्थ ईस्ट में तो बिहारी इतने बुरे बन जाते हैं कि कर दी जाती है उनके पूरे परिवार की गोली मारकर हत्या।

बिहारी बहुत बुरे होते हैं- सालों अपने घर गए बिना होटलों में, घरों में, हॉस्पिटलों में बने रहते हैं नौकर

आपके लिए कर रहे होते हैं 25वीं मंजिल पर रंगाई-पुताई।

 

वो बिहारी तो और बुरे होते हैं, जो कोशिश कर सीखना चाहते हैं आपकी भाषा लेकिन नहीं भूल पाते अपनी बोली,

बिहारी इतने बुरे होते हैं कि अक्सर आपके मज़ाक का प्रतीक बन जाते हैं और अपने ऊपर बने मज़ाक पर मुस्कुरा भी लेते हैं।

बिहारी इसलिए भी बुरे होते हैं क्योंकि उनमें ज़्यादातर मेहनतकश और मज़दूर होते हैं।

Youth Ki Awaaz के बेहतरीन लेख हर हफ्ते ईमेल के ज़रिए पाने के लिए रजिस्टर करें

Similar Posts

Youth Ki Awaaz के बेहतरीन लेख पाइये अपने इनबॉक्स में

फेसबुक मैसेंजर पर Awaaz बॉट को सब्सक्राइब करें और पाएं वो कहानियां जो लिखी हैं आप ही जैसे लोगों ने।

मैसेंजर पर भेजें

Sign up for the Youth Ki Awaaz Prime Ministerial Brief below