पीएनबी को चूना लगाने वाले नीरव मोदी के नाम एक खुला खत

प्रिय नीरव,

आप जहां कहीं भी हो, अपने नाम की तरह नीरव (Noiseless) ही रहना। यहां देश में आपके नाम का बहुत शोर है लेकिन आप घबराना नहीं! इस शोर को दबाने के लिए हर रोज़ एक नया शोर पैदा किया जा रहा है। आपने भारतीय बैंक व्यवस्था को कैशलेस करने में अहम योगदान दिया है, जिसके बदले में सरकार ने बतौर पुरस्कार आपका पासपोर्ट और आधार कार्ड निरस्त कर दिया है।

वैसे भी आपके पास विदेशी नागरिकता तो है ही फिर ऐसे निरस्तीकरण से घबराना भी क्या? हम समस्त देशवासी आपके लिए लोन की पाई-पाई टैक्स, बैंक पेनाल्टी और जीएसटी भरकर चुका देंगे। हो सके तो भारत का परचम न्यूयॉर्क और बेल्जियम में भी लहराना और वहां के बैंकों से अरबों का लोन लेकर उनके शासनाध्यक्षों के साथ दावोस जाना और फोटो भी खिंचवाना। उसके बाद लोन ना चुका पाने की स्थिति में किसी अन्य देश की सैर पर निकल जाना।

अपने दोनों बड़े भाईयों ललित मोदी और विजय माल्या की कुशल मंगल लेते रहना। उन्हें विदेश में अकेलेपन और अलगाव का एहसास मत होने देना। आज अगर आप विदेश में हो तो सिर्फ अपने भाइयों के बनाए मार्ग और पथ प्रदर्शन की वजह से। आपका एक भाई सुब्रत राय सहारा ईमानदारी के चक्कर में देश में ही रह गया, तो उसे जेल की रोटियां खानी पड़ी। शुक्र है, आप समय रहते यहां से निकल गए। कालाधन वापसी के इस यज्ञ में आपकी आहुति का देश ऋणी रहेगा।

नीरव मोदी
नीरव मोदी। फोटो साभार: Twitter

आपका एक और भाई विक्रम कोठारी जो कि रोटोमैक का मालिक है, बैंकों के 800 करोड़ गबन कर गया है। देश उसकी तलाश में है, हो सके तो उसे भी सकुशल अपने पास बुलाकर चोरी-चकारी के कुछ नए तरीके सिखा देना। अपने मेहुल भाई अब एंटिगुआ के हो गए हैं। कभी-कभी उनके पास भी हो आना और मिलकर उन दिनों की याद ताज़ा करना जब आप दोनों मिलकर पंजाब नेशनल बैंक को ठगा करते थे।

शाम को स्विमिंग पूल के किनारे बैठकर जाम से जाम टकराना और भारत सरकार की आपके प्रत्यर्पण करने की पुरज़ोर कोशिश पर ज़ोर-ज़ोर से ठहाके लगाना।

2019 के चुनाव हो चुके हैं। आपके डोनेशन ने अपना काम बखूबी कर दिया है। भविष्य में भी डोनेशन करते रहना और देश की चिंता बिल्कुल मत करना। दोनों बड़ी पार्टियों को हमने ब्लेम गेम में लगा रखा है। आप बस दिन दोगुनी और रात चौगुनी तरक्की करना और सुबह शाम विदेशी बैंकों पर नज़र गड़ाए रखना।

जब भी आपके ऊपर कर्ज़ चुकाने का दबाव बने, आप अपने ही अंदाज़ में सीनाजोरी करते हुए पंजाब नेशनल बैंक को हड़काते रहना। भारत सरकार की प्रत्यर्पण की कोशिशों को माल्या भाई की तरह हवा में उड़ाते रहना। अभी राज्यों में चुनावी मौसम फिर आने वाले हैं, जिसमें आपके नाम की बारिश की संभावनाएं हैं।

देश को अब बाढ़ सहने की आदत हो गई है इसलिए ऐसी बारिशों पर ज़्यादा ध्यान मत देना। कुछ नए डिफॉल्टर मेकिंग इन प्रॉसेस में हैं, उनके लिए दुआएं करना और जिनका पैसा आप खा गए हो, उन्हें दुआओं में याद रखना।

Youth Ki Awaaz के बेहतरीन लेख हर हफ्ते ईमेल के ज़रिए पाने के लिए रजिस्टर करें

Similar Posts

Youth Ki Awaaz के बेहतरीन लेख पाइये अपने इनबॉक्स में

फेसबुक मैसेंजर पर Awaaz बॉट को सब्सक्राइब करें और पाएं वो कहानियां जो लिखी हैं आप ही जैसे लोगों ने।

मैसेंजर पर भेजें

Sign up for the Youth Ki Awaaz Prime Ministerial Brief below